Sunday, 24 August 2014

Life in hindi



कई जीत बाकी हैं,
कई हार बाकी हैं
अभी तो जिंदगी का सार बाकी है..

यहां से चले हैं नयी मज़िल के लिए,
ये तो एक पन्ना था,
अभी तो पुरी किताब बाकी है..

तजुर्बे ने एक बात सिखाई है...

किसी की गलतियों को बेनक़ाब ना कर,
'ईश्वर' बैठा है, तू हिसाब ना कर.